आपका परिचय

रविवार, 30 सितंबर 2018

अविराम विस्तारित

अविराम  ब्लॉग संकलन,  वर्ष  :  08,   अंक  :  01-02,   सितम्बर-अक्टूबर 2018 


।।कविता अनवरत।। 


मुकुट सक्सेना




अभी तक

जिन पूर्वजों ने
रोपे थे नीम, पीपल,
आम और बरगद के पौधे
अपनी ज़मीन पर
सींचे भी/बड़े मनोयोग से
फिर बढ़े वे,
उनके बच्चों के साथ-साथ
हुए जवान
कि उन्होंने/बड़े होते ही
बाँट लिया बाग
कई-कई हिस्सों में
और फिर बँट गए
दरख़्त भी!
छायाचित्र : उमेश महादोषी 
किसी के हिस्से में 
आया नीम,
किसी के पीपल/आम
तो किसी केे बरगद!
पर/बँट नहीं सकीं
उनकी जड़ें
जो बहुत गहराई में
गुंथी हैं/एक दूसरे में
अभी तक!!
  • 5-ग 17, जवाहर नगर, जयपुर-302004 (राज0)/मोबा. 09828089417

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें