आपका परिचय

सोमवार, 19 सितंबर 2011

08. भगीरथ परिहार

भगीरथ परिहार  

जन्म : 02.0701944 को ग्राम सेवाडी, जिला-पाली (राजस्थान) में। शिक्षा : बी.एस-सी., बी.एड., एम.ए.(राजनीतिशास्त्र व अर्थशास्त्र) एवम एल.एल.बी.।
योगदान एवम व्यक्तित्व :
संघर्षशील व्यक्तित्व के धनी भगीरथ जी लघुकथा आन्दोलन के उन वरिष्ठतम साहित्यकारों में से हैं, जिन्होंने लघुकथा लेखन के साथ-साथ समीक्षात्मक-समालोचनात्मक कार्य से भी लघुकथा एवं उसके मानकों को स्थापित करने एवं दिशा देने में महत्वपूर्ण योगदान किया है। लघुकथा और लघुकथा आन्दोलन के साथ नये-नये लागों को जोड़ने व प्रोत्साहित करने में भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह अखिल भारतीय लघुकथा संगठन के अध्यक्ष भी रहे। भगीरथ जी परमाणु ऊर्जा विभाग के विद्यालय में शिक्षक रहे तथा विभाग द्वारा सेवा में व्यवधान उत्पन्न करने के कारण अनेक वर्षो तक वकालत की। विभाग के दमनकारी रवैये के खिलाफ न्यायालय से अपनी लड़ाई जीत कर पुनः सेवा में आए। लघुकथा के साथ भगीरथ जी की कविता में भी अच्छी दख़ल है।
लेखन,प्रकाशन एवं संपादन :समकालीन हिन्दी लघुकथा के प्रथम संकलन ‘गुफाओ से मैदान की ओर’ (1974) का सम्पादन किया। अब तक प्रकाशित लघुकथा के सभी महत्वपूर्ण संकलनों में उनकी लघुकथाएँ, लघुकथा पर आलोचनात्मक/समीक्षात्मक महत्वपूर्ण लेख प्रकाशित। कई महत्वपूर्ण कथा संकलनों/पत्रिकाओं में कहानियाँ भी प्रकाशित।  1996 में प्रकाशित उनका लघुकथा संग्रह ‘पेट सबके है’ काफी चर्चित रहा। ‘पंजाब की चर्चित लघुकथाएँ’ व ‘राजस्थान की चर्चित लघुकथाएँ’ संकलनों का सम्पादन किया, जिनमें चयनित लघुकथाओं के साथ लघुकथा लेखकों के रचनाकर्म पर समीक्षात्मक आलेख भी सम्मिलित हैं। उन्होंने लघुपत्रिका ‘अतिरिक्त’ का सम्पादन किया। इस समय इन्टरनेट पर ‘ज्ञानसिन्धु’, ‘अतिरिक्त’ व ‘पलाश’ महत्वपूर्ण  साहित्यिक बलॉग्स का प्रकाशन कर रहे हैं। 
सम्मान/पुरस्कार : कईं संस्थाओं द्धारा सम्मानित।  
सम्प्रति : शिक्षण व लेखन
सम्पर्क  : 228, नयाबाजार कालोनी, रावतभाटा-323307 (राजस्थान)।
                        फोन : 9414317654 /01475-233241
                     ई मेल - gyansindhu@gmail.com

अविराम में आपकी रचनाओं का प्रकाशन   
मुद्रित प्रारूप : अंक : जून २०११/दो क्षणिकाएं (पृष्ठ 43)
                      अंक : सितम्बर2011/लघुकथा के स्तम्भ में तीन लघुकथाएं (पृष्ठ 8 -11)
ब्लॉग प्रारूप (अविराम विमर्श) : अंक : सितम्बर 2011/आलेख 'प्रेमचंद और लघुकथा विमर्श'


नोट : १. परिचय के शीर्षक के साथ दी गयी क्रम  संख्या हमारे कंप्यूटर में संयोगवश  आबंटित  आपकी फाइल संख्या है. इसका और कोई अर्थ नहीं है। आपका फोटो प्राप्त होने पर शामिल कर लिया जायेगा  
२. उपरोक्त परिचय हमें भेजे गए अथवा हमारे द्वारा विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी पर आधारित है. किसी भी त्रुटि के लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं. त्रुटि के बारे में रचनाकार द्वारा हमें सूचित करने पर संशोधन कर दिया जायेगायदि रचनाकार अपने परिचय में कुछ अन्य सूचना शामिल करना चाहते हैं, तो इसी पोस्ट के साथ के टिपण्णी कॉलम में दर्ज कर सकते हैं। यदि किसी रचनाकार को अपने परिचय के इस प्रकाशन पर आपत्ति हो, तो हमें सूचित कर दें, हम आपका परिचय हटा देंगे

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें