आपका परिचय

रविवार, 29 जनवरी 2012

अविराम विस्तारित


अविराम का ब्लॉग :  वर्ष : १, अंक : ०५, जनवरी २०१२ 

।।हाइकु।।

सामग्री : केशव शरण एवं मिली शर्मा के हाइकु ।


केशव शरण


आठ हाइकु
1.
गंध पा गये
फूलों का रस लेने
भौंरे आ गये
2.
मिसाइल का
निशाना महल था
नष्ट नीड़ है
3.
चोट से ज्यादा
मरहम पट्टी से 
रो रहा बच्चा
4.
फड़क उठी 
   
दृश्य छाया चित्र : उमेश महादोषी 
बरगद की जटा
छाते ही घटा
5.
कैसे संभाले
धीरे-गंभीर नदी
उद्दंड नाले
6.
पूरा करेगी
पेड़-पेड़ की इच्छा
कैसे ये लता
7.
आया न चांद
गिन-गिन के तारे
मैं सो गया हूँ
8.
जला है दिल
छंटते-छंटते ही
छंटेगा धुआं
  • एस-2/564, सिकरौल, वाराणसी कैन्ट, वाराणसी-2 (उ0प्र0)

मिली शर्मा

चार हाइकु
1. 
चहचहाट
दृश्य छाया चित्र : रोहित कम्बोज 
शहर में गौरैया
नहीं गुंजाती
2. 
नर्मदा नदी
साधनाओं की नदी
पूजती सदी
3. 
नीम कटाया
आवरण बिगाड़ा
बजा नगाड़ा
4. 
दण्डकारण्य
सागौन एवं साल
है मालामाल।
  • ९२ / ७७, राजकिशोर नगर, बिलासपुर, छत्तीसगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें