आपका परिचय

रविवार, 30 सितंबर 2012

अविराम विस्तारित

अविराम का ब्लॉग :  वर्ष : 2, अंक : 1, सितम्बर  2012


।।जनक छन्द।।


सामग्री :  इस बार डॉ. ब्रह्मजीत गौतम के जंक छंद।



डॉ. ब्रह्मजीत गौतम



पाँच जनक छन्द

1.
बादल सा दानी नहीं
सींच-सींच कर सृष्टि को
खाली हो जाता यहीं।


2.
जलता सकल समाज है
आरक्षण की आग में
हुई कोढ़ में खाज है।
3.
छाया चित्र : डॉ बलराम अग्रवाल 
पत्थर बोला स्तम्भ से
तू मुझ पर ही है खड़ा
इतराता क्यों दम्भ से।
4.
यह संसद आगार है
धक्का-मुक्की, शोर-गुल
ज्यों सब्जी बाज़ार है।
5.
जड़ता का न प्रभाव है
नित नूतनता प्रकृति में 
उसका सतत स्वभाव है।

  • बी-85, मिनाल रेजीडेंसी, जे.के. रोड, भोपाल-462023(म.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें