आपका परिचय

शुक्रवार, 29 अगस्त 2014

अविराम विस्तारित

अविराम का ब्लॉग :  वर्ष :03, अंक : 09-10,  मई-जून 2014 

।।संभावना।।

सामग्री : सुश्री कमलेश सूद अपनी दो कविताओं के साथ।


कमलेश सूद



दो कविताएँ 

अच्छाई

अच्छाई-
एक सुगन्ध है
सुरभि सी फैलती है
चहुँ ओर 
सुबह की धूप जैसी 
देती है शीतलता
और बनकर चिड़िया
चहकती है, महकती है
बन कस्तूरी।
छाया चित्र :  उमेश महादोषी 


अहम्

आज भी पुरुष
वही पुरानी चादर 
ताने हुए अहम् की
तना हुआ है।

सदियों से
नारी की 
कोमल भावनाओं, वेदनाओं और
संवेदनाओं को वह
महसूसता ही नहीं।

अपने अहम् की धुरी की
करता है परिक्रमा
और सुविधानुसार बदलता है रंग
गिरगिट की तरह।
  • वार्ड नं. 3, घुघर रोड, पालमपुर-176061 (हि.प्र.) / मोबा. :  09418835456

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें