आपका परिचय

बुधवार, 24 मई 2017

अविराम विस्तारित

               अविराम  ब्लॉग संकलन,  वर्ष  :  6,   अंक  :  01-04,  सितम्बर-दिसम्बर 2016




शिवशंकर यजुर्वेदी




झिलमिल सपनों के राजहंस

अधरों की मधुरिम छुअन क्षणिक
युग-युग की प्यास जगा बैठी।
मुरझाये उपवन के मन में
मधुमासी आस जगा बैठी।

बस गये स्नेह संवाद सहज
यूँ श्वाँस सरित की कलकल में
जैसे सुगंध हो रची-बसी
पाँखुरी-पाँखुरी शतदल में
अल्हड़ पुरवा की अठखेली
स्वर्गिक अभिलाष जगा बैठी।

अधरों की मधुरिम छुअन क्षणिक
युग-युग की प्यास जगा बैठी।


रेखाचित्र : रमेश गौतम 
झिलमिल सपनों के राजहंस
उतरे दृग मानसरोवर में
हो गई समाहित समल सृष्टि
लगता है ढाई आखर में
परिचय विहीन पावन श्रद्धा
अद्भुत विश्वास जगा बैठी।

अधरों की मधुरिम छुअन क्षणिक
युग-युग की प्यास जगा बैठी।

यामिनी-दिवस, प्रातः-संध्या
ज्यों बंधे प्रतीक्षा बंधन में
करबद्ध खड़ीं त्यों आशायें
मधुमिलन पर्व अभिनन्दन में
चाँदनी झाँकती मेघों से
कण-कण उद्भाष जगा बैठी।

अधरों की मधुरिम छुअन क्षणिक
युग-युग की प्यास जगा बैठी।

  • 517, कटरा चाँद खाँ, बरेली-243005 (उ.प्र.)/मोबा. 09319467998

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें