आपका परिचय

शुक्रवार, 31 अगस्त 2012

225. किशन कबीरा

किशन कबीरा




जन्म  :  04.03.1956, राजसमन्द, राजस्थान। 

लेखन/प्रकाशन/योगदान  :  मूलतः कवि। समकालीन कविता के प्रमुख हस्ताक्षर। हिन्दी की अनेक पत्र-पत्रिकाओं में कविताओं का प्रकाशन एवं आकाशवाणी से प्रसारण। ‘सूरज नहीं हो तुम’, ‘छलनी हुए शब्द’ तथा ‘दलित टोला’ प्रकाशित कविता संग्रह। 

सम्प्रति  :  नर्सिंग अधीक्षक (प्रथम श्रेणी)।

सम्पर्क  :  कबीरा कॉटेज, कबूतर खाने के पास, राजसमन्द-313324 (राज.)
फोन  :  02952-220608 / मोबाइल :  09414328661


अविराम में प्रकाशन

मुद्रित अंक  :  दिसम्बर 2011 अंक में तीन कविताएँ-  मैंने जला लिया है अलाव / शेषनाग / बेटी।
                       जुलाई-सितम्बर 2012 अंक में कविता-  जब उन्हें जरूरत होती है।

ब्लॉग संस्करण  :  नवम्बर 2011 अंक में कविता- ‘एकलव्य और अर्जुन’।




नोट : १. परिचय के शीर्षक के साथ दी गयी क्रम  संख्या हमारे कंप्यूटर में संयोगवश  आबंटित  आपकी फाइल संख्या है. इसका और कोई अर्थ नहीं है।
२. उपरोक्त परिचय हमें भेजे गए अथवा हमारे द्वारा विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी पर आधारित है. किसी भी त्रुटि के लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं. त्रुटि के बारे में रचनाकार द्वारा हमें सूचित करने पर संशोधन कर दिया जायेगा। यदि रचनाकार अपने परिचय में कुछ अन्य सूचना शामिल करना चाहते हैं, तो इसी पोस्ट के साथ के टिपण्णी कॉलम में दर्ज कर सकते हैं। यदि किसी रचनाकार को अपने परिचय के इस प्रकाशन पर आपत्ति हो, तो हमें सूचित कर दें, हम आपका परिचय हटा देंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें