आपका परिचय

मंगलवार, 3 अक्तूबर 2017

अविराम  ब्लॉग संकलन,  वर्ष  :  6,   अंक  :  07-10,  मार्च-जून 2017





अविराम साहित्यिकी 
(समग्र साहित्य की समकालीन त्रैमासिक पत्रिका)
खंड (वर्ष) :  6 / अंक : 1 / अप्रैल-जून 2017 (मुद्रित)

प्रधान सम्पादिका :  मध्यमा गुप्ता

अंक सम्पादक :  डॉ. उमेश महादोषी 

सम्पादन परामर्श :  डॉ. सुरेश सपन

मुद्रण सहयोगी :  पवन कुमार 



आवरण रेखाचित्र : रमेश गौतम 



अविराम का यह मुद्रित अंक रचनाकारों व सदस्योंको 14 मई 2017  को तथा अन्य सभी सम्बंधित मित्रों-पाठकों को 18 मई 2017 तक भेजा जा चुका है। 10  जून 2017  तक अंक प्राप्त न होने पर सदस्य एवं अंक के रचनाकार अविलम्ब पुनः प्रति भेजने का आग्रह करें। अन्य मित्रों को आग्रह करने पर उनके ई मेल पर पीडीफ़ प्रति भेजी जा सकती है। पत्रिका पूरी तरह अव्यवसायिक है, किसी भी प्रकाशित रचना एवं अन्य सामग्री पर पारिश्रमिक नहीं दिया जाता है। इस मुद्रित अंक में शामिल रचना सामग्री और रचनाकारों का विवरण निम्न प्रकार है-





।।सामग्री।।

अनवरत
स्व. निरंकार देव सेवक (3)
श्यामसुन्दर निगम (4)
राजकुमार कुम्भज/रमेश गौतम (6)
ऋषभदेव शर्मा (7)
ज्ञानचंद मर्मज्ञ/उमाश्री (8)
रमेश प्रसून/अखिलेश अंजुम (9)
एस.एम. रस्तोगी ‘शान्त’/गोपाल ‘राजगोपाल’ (10)
तारिक असलम ‘तस्नीम’ (11)
श्रीहरि वाणी/हरिश्चन्द्र शाक्य (12)
पं.ज्वालाप्रसाद शांडिल्य ‘दिव्य’/कुमार आनन्द पाण्डेय (13)
देवेन्द्र कुमार मिश्रा/सुनील कुमार गुप्ता (14)

सरोकार

वर्तमान राष्ट्रीय परिदृश्य पर श्रीकृष्ण कुमार त्रिवेदी/रमेश प्रसून की टिप्पणियाँ (15)

उत्तराखण्ड में लघुकथा

विशेष संपादकीय (17)
आशा शैली (18)
बलराम अग्रवाल (19)
योगेन्द्रनाथ शर्मा ‘अरुण’ (21)
आशा रावत (23)
के. एल. दिवान (24)
कुसुम जोशी (25)
महावीर रंवाल्टा (26)
महावीर उत्तरांचली (28)
शशिभूषण बड़ोनी (30) 
मीरा भारद्वाज (31) 
नीरज सुधांशु (32) 
अर्चना त्रिपाठी (33)
राजेश्वरी जोशी (34)
जगदीश पन्त ‘कुमुद’ (35)
उमेश महादोषी (36)

विमर्श

सोशल मीडिया पर हिन्दी लघुकथा-02 /डॉ. जितेन्द्र ‘जीतू’ (39)

कथा कहानी
सूखती नदी बहने लगी.../ज्योत्सना कपिल (41)

कथा प्रवाह
भगवान अटलानी/प्रभात दुबे (47)
लता अग्रवाल (48)
उपमा शर्मा (49)
मधु जैन (50)
सूरज मुदुल (51)

किताबें

जीवन मूल्यों के संप्रेषण की जीवंत कड़ी: डॉ. योगेन्द्रनाथ शर्मा ‘अरुण’के कहानी संग्रह ‘मन का सुख’ (52)/समाज के यथार्थ को अनावृत करती लघुकथाएँ: डॉ. अशोक गुजराती के लघुकथा संग्रह ‘अन्दाज़ नया’ (53) की उमेश महादोषी द्वारा समीक्षाएँं।

लघुकथा : अगली पीढ़ी

डॉ. संध्या तिवारी की लघुकथाओं पर उमेश महादोषी की प्रस्तुति (55)

स्मृति अशेष 
स्व. रामेश्वर दयाल शर्मा ‘दयाल’ का स्मरण/श्रद्धांजलि (64) 

स्तम्भ 
माइक पर : संपादकीय (आवरण 2)/गतिविधियाँ (65)/प्राप्ति स्वीकार (67)/सूचनाएँ (आवरण-4)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें