आपका परिचय

रविवार, 12 नवंबर 2017

अविराम विस्तारित

अविराम  ब्लॉग संकलन,  वर्ष  :  7,   अंक  :  01-04,  सितम्बर-दिसम्बर 2017




।।कविता अनवरत।।


रामस्वरूप मूँदड़ा




आकाश की परिधि के बाहर

आकाश सिर पर उठा
घूमता रहा कई दिन
तुमने कहा था मुझे चुनने हैं
सितारे अनगिन।

मैंने कहा आकाश लाया हूँ
भरलो झोलियाँ
पहले तुमने भरी मुट्ठियाँ
और पाँव से झोलियों को फैला दिया
धरती की सतह पर।
कोई आये/सितारे तोड़े
इन्हें भर दे
बाँधकर चला जाए
कोई अनजान चेहरा
तुम्हारे स्वप्निल भविष्य के लिए
बड़ी-बड़ी गठरियाँ।

बोझ महसूसा है कभी तुमने!
रेखाचित्र : विज्ञान व्रत 
कहीं किसी का?
कभी नहीं
और प्रतीक्षा करो
मेरे जाने के बाद
शायद कोई आ जाये
जो भर दे इन्हें फिर
जान सको तुम
आदमी का वजन।

उम्र के दिन शेष नहीं हैं इतने
थकन भरे पाँवों से
रुक गया था पड़ाव पर
आकाश गिरे मेरे सिर से नीचे
इससे पहले खिसक जाना है तुम्हें
आकाश की परिधि के बाहर
यदि जीना है।

मुझे, जहाँ तक चल सकूँगा आगे
चलना है
कर रहा हो शायद कोई और भी इंतजार
और फिर दब जाना है
इसी आकाश के नीचे।
जो घूमता रहा उठाकर सिर पर
सितारों का आकाश
तुम्हारे लिए
वह मैं ही हूँ
सिर्फ मैं ही।


  • पथ 6, द-489, रजत कॉलोनी, बूँदी-323001, राज./मो. 09414926428

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें