आपका परिचय

शनिवार, 29 सितंबर 2012

236. डॉ. सुरेन्द्र मन्थन

स्व. (डॉ.) सुरेन्द्र मन्थन




       {दुर्भाग्यवश वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. मन्थन साहब हमारे बीच नहीं हैं। लघुकथा में उनका योगदान सदैव याद किया जायेगा।}

जन्म :  04.04.1937। 

शिक्षा :  एम.ए., पी-एच.डी.। 

लेखन/प्रकाशन/योगदान :  मूलतः कथाकार। प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित। ‘घायल आदमी’ व‘ भीड़ में’ (लघुकथा संग्रह), ‘अपने लिए नहीं’ व ‘दिशाहारा’ (कहानी संग्रह), ‘स्वतन्त्रता-सैनानी रणजीत सिंह’ व ‘संत सौरभ’ (जीवनी), हिन्दी कहानी में व्यक्तित्व-विघटन (शोध ग्रन्थ) आपकी प्रकाशित कृतियां हैं। लघुकथा संकलन ‘सहयात्री’ आपकी सम्पादित कृति है। ‘पंजाब के हिंदी-साहित्य को सुरेन्द्र मन्थन का योगदान’ विषय पर गुरु नानक विश्वविद्यालय, अमृतसर में लघु शोध-प्रबन्ध स्वीकृत हो चुका है।

परिवार से सम्पर्क का पता :  1169, बसंत एवन्यू, दुगरी रोड, लुधियाना-143013 (पंजाब)


अविराम में प्रकाशन  

मुद्रित अंक  :  जनवरी-मार्च 2012 अंक में तीन लघुकथाएं- ‘सत्ताधीश’, ‘जिंदा मैं’ एवं ‘आहत राष्ट्र’। 




नोट : १. परिचय के शीर्षक के साथ दी गयी क्रम  संख्या हमारे कंप्यूटर में संयोगवश  आबंटित  आपकी फाइल संख्या है. इसका और कोई अर्थ नहीं है।
२. उपरोक्त परिचय हमें भेजे गए अथवा हमारे द्वारा विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी पर आधारित है. किसी भी त्रुटि के लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं. त्रुटि के बारे में रचनाकार द्वारा हमें सूचित करने पर संशोधन कर दिया जायेगा। यदि रचनाकार अपने परिचय में कुछ अन्य सूचना शामिल करना चाहते हैं, तो इसी पोस्ट के साथ के टिपण्णी कॉलम में दर्ज कर सकते हैं। यदि किसी रचनाकार को अपने परिचय के इस प्रकाशन पर आपत्ति हो, तो हमें सूचित कर दें, हम आपका परिचय हटा देंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें