आपका परिचय

शनिवार, 29 सितंबर 2012

259. राजेन्द्र नागर ‘निरन्तर’

राजेन्द्र नागर ‘निरन्तर’





जन्म :  4 जून 1963। 

शिक्षा : बी.एस-सी.(गणित), बी.लिब.आई. एससी.।

लेखन/प्रकाशन/योगदान  :  मूलतः लघुकथाकार, व्यंग्य, गीत व ग़ज़ल में भी लेखन। कुछ दैनिक पत्रों के साथ कला समीक्षक के रूप में संबद्ध। प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित। आकाशवाणी से व्यंग्य लघुकथाएं प्रसारित। ‘साथ चलते हुए’ (श्री संतोष सुपेकर के साथ संयुक्त) व ‘खूंटी पर लटका सच’ (दोनों लघुकथा संग्रह) प्रकाशित कृतियां। ‘स्याह हाशिए’ एवं ‘हाशिए का आदमी’ (दोनों लघुकथा संकलन) का सम्पादन। ‘सरल काव्यांजलि’ व ‘किशोर दा फैन्स क्लब’ संस्थाओं से संबद्ध।

सम्प्रति :  इलाहाबाद बैंक में प्रबन्धक।

सम्पर्क :  ए/91, विवेकानन्द कालॉलोनी, उज्जैन-456010(म.प्र.) 
                      दूरभाष : 0734-2552552 / मोबा. : 09425916606


अविराम में प्रकाशन

मुद्रित अंक :  अप्रैल-जून 2012 अंक में दो लघुकथाएं- ‘और नारे लगते रहे’ एवं ‘औकात’।

ब्लॉग संस्करण  :  मार्च 2012 अंक में दो लघुकथाएं- ‘बदलते समय की सोच’ व ‘धर्म और कर्तव्य’।



नोट : १. परिचय के शीर्षक के साथ दी गयी क्रम  संख्या हमारे कंप्यूटर में संयोगवश  आबंटित  आपकी फाइल संख्या है. इसका और कोई अर्थ नहीं है।
२. उपरोक्त परिचय हमें भेजे गए अथवा हमारे द्वारा विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी पर आधारित है. किसी भी त्रुटि के लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं. त्रुटि के बारे में रचनाकार द्वारा हमें सूचित करने पर संशोधन कर दिया जायेगा। यदि रचनाकार अपने परिचय में कुछ अन्य सूचना शामिल करना चाहते हैं, तो इसी पोस्ट के साथ के टिपण्णी कॉलम में दर्ज कर सकते हैं। यदि किसी रचनाकार को अपने परिचय के इस प्रकाशन पर आपत्ति हो, तो हमें सूचित कर दें, हम आपका परिचय हटा देंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें