आपका परिचय

सोमवार, 30 अप्रैल 2018

अविराम के अंक

अविराम  ब्लॉग संकलन,  वर्ष  :  7,   अंक  :  07-08,  मार्च-अप्रैल 2018




अविराम साहित्यिकी 
(समग्र साहित्य की समकालीन त्रैमासिक पत्रिका)
खंड (वर्ष) :  6 / अंक : 3 / अक्टूबर-दिसंबर 2017 (मुद्रित)

प्रधान सम्पादिका :  मध्यमा गुप्ता

अंक सम्पादक :  डॉ. उमेश महादोषी 

सम्पादन परामर्श :  डॉ. सुरेश सपन

मुद्रण सहयोगी :  पवन कुमार 





अविराम  साहित्यिकी का यह मुद्रित अंक रचनाकारों व सदस्योंको 14 नवम्बर  2017 को तथा अन्य सभी सम्बंधित मित्रों-पाठकों को 18 नवम्बर  2017 तक भेजा जा चुका है।10  दिसंबर 2017  तक अंक प्राप्त न होने पर सदस्य एवं अंक के रचनाकार अविलम्ब पुनः प्रति भेजने का आग्रह करें। अन्य मित्रों को आग्रह करने पर उनके ई मेल पर पीडीफ़ प्रति भेजी जा सकती है। पत्रिका पूरी तरह अव्यवसायिक है, किसी भी प्रकाशित रचना एवं अन्य सामग्री पर पारिश्रमिक नहीं दिया जाता है। इस मुद्रित अंक में शामिल रचना सामग्री और रचनाकारों का विवरण निम्न प्रकार है-


।।सामग्री।।
अनवरत-1 (काव्य रचनाएँ)

माधव नागदा (3)
पंकज परिमल (5)
ऋषिवंश (6)
शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’ (7)
शील कौशिक (8)

सरल शताब्दी वर्ष पर विशेष
(जन्मशताब्दी वर्ष आरम्भ होने पर श्रीकृष्ण सरल के व्यक्तित्व व सृजन पर विशेष चर्चा)

विशेष सम्पादकीय: संतोष सुपेकर (10)
श्री सरल की सुभाष शोध यात्रा: भगीरथ बड़ोले ‘निर्मल’ (11)
मेरी सृजन संस्मृतियाँ: श्रीकृष्ण सरल (21)
आदर्श शिक्षक - श्रीकृष्ण ‘सरल’: परमानन्द शर्मा ‘अमन’ (29)
सरल महाकाव्यों में शहीद माताओं का पुण्य स्मरण: अशोक वक्त (30)
अमर कथा के गायक: पुष्पा चौरसिया (34)
सरलजी के काव्य में नारी चेतना: संतोष सुपेकर (35)
सरलजी का जीवन भी क्रान्ति के उद्घोष जैसा था: उमेश महादोषी (36)
सरलजी का आत्मकथ्य (38)

कथा प्रवाह (लघुकथाएँ)

स्व. सतीश दुबे/अशोक भाटिया (39)
आभा सिंह (40)
पूरन सिंह/उमेश मोहन धवन (41)
शोभा रस्तोगी (42)
राजेश उत्साही/संध्या तिवारी (43)
माणक तुलसीराम गौड़ (44)
कान्ता राय (45)
राधेश्याम पाठक ‘उत्तम’ (46)
सुनीता त्यागी (47)

अनवरत-2 (काव्य रचनाएँ)

रमेश कटारिया ‘पारस’/दीप बिलासपुरीे (48)
चक्रधर शुक्ल (49)
कृष्णा आचार्य/सुवेश यादव (50)
शबनम शर्मा/रोजलीन (51)

सरोकार (सामाजिक-राष्ट्रीय विषयों पर चर्चा)

महाराणा प्रताप की शौर्यगाथा को पुनर्जीवित करता संग्रहालय: उमेश महादोषी (52)

लघुकथा: अगली पीढ़ी (लघुकथाएँ)

कपिल शास्त्री : लघुकथा में घनीभूत मानवीय अनुभूतियों को उकेरता हस्ताक्षर : उमेश महादोषी (56)

कथा कहानी (कहानी)

मुस्कुराती जिन्दगी: योगेन्द्रनाथ शर्मा ‘अरुण’ (67)

किताबें (समीक्षााएँ)

लघुकथाओं में बोलता कहानी का रियाज: आभा सिंह के लघुकथा संग्रह ‘माटी कहे’ की’ माधव नागदा द्वारा (70)/लघुकथा के घेरों को तोड़ने की कोशिश: अशोक भाटिया की पुस्तक ‘समकालीन लघुकथा’ की राधेश्याम भारतीय द्वारा (71)/‘प्रेम एवं परिवेश की अनुभूतियों की कविता’: श्रीति राशिनकर व संदीप राशिनकर के कविता संग्रह ‘कुछ मेरी कुछ तुम्हारी’ (72) एवं/‘कविता की रचनात्मकता है आग का रहस्य’: श्रीराम दवे के कविता संग्रह ‘आग तुम रहस्य तो नहीं’ (74) की उमेश महादोषी द्वारा/‘लघुकथा प्रदर्शनी जैसा कोलाज’: हरिशंकर शर्मा की पुस्तक ‘लघुकथा: एक कोलाज’ की संध्या तिवारी द्वारा (75) समीक्षाएँ।

स्तम्भ 

माइक पर: संपादकीय (आव. 2)/गतिविधियाँ (77)/प्राप्ति स्वीकार (34, 47, 55 व 79)/ सूचनाएँ (20, 29, 37, 38, एवं आव.4)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें