आपका परिचय

सोमवार, 31 दिसंबर 2012

350. विनोद कुमारी किरन

विनोद कुमारी किरन




जन्म :  22 नवम्बर 1944।

शिक्षा :  एम.ए. (हिन्दी)।

लेखन/प्रकाशन/योगदान :  काव्य एवं कथा साहित्य में लेखन। हिन्दी एवं ब्रजभाषा में समान रूप से लेखन। अनेकों पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित। आकाशवाणी के मथुरा व उदयपुर केन्द्रों से रचनाएँ प्रसारित। ‘अन्त भलौ तौ सब भलौ’ (ब्रजभाषा में उपन्यास), ‘आज कौ सवाल‘ (ब्रजभाषा में कहानी संग्रह) प्रकाशित कृतियाँ।

सम्मान :  ब्रजभाषा अकादमी द्वारा सन् 1988-1989 में सम्मानित। उपन्यास ‘अन्त भलौ तौ सब भलौ’ ब्रजभाषा गद्य पुरस्कार से सम्मानित।

संप्रति :  लेखन एवं पठन-पाठन।

संपर्क :  जी-127, उदयपथ, श्यामनगर विस्तार, जयपुर, राजस्थान।
                  फोन :  0141-2290870 / मोबाइल :  09829324969



अविराम में प्रकाशन

ब्लॉग प्रारूप :  नवम्बर 2012 अंक में ‘होम में जले हाथ’।




नोट : १. परिचय के शीर्षक के साथ दी गयी क्रम  संख्या हमारे कंप्यूटर में संयोगवश  आबंटित  आपकी फाइल संख्या है. इसका और कोई अर्थ नहीं है।
२. उपरोक्त परिचय हमें भेजे गए अथवा हमारे द्वारा विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी पर आधारित है. किसी भी त्रुटि के लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं. त्रुटि के बारे में रचनाकार द्वारा हमें सूचित करने पर संशोधन कर दिया जायेगा। यदि रचनाकार अपने परिचय में कुछ अन्य सूचना शामिल करना चाहते हैं, तो इसी पोस्ट के साथ के टिपण्णी कॉलम में दर्ज कर सकते हैं। यदि किसी रचनाकार को अपने परिचय के इस प्रकाशन पर आपत्ति हो, तो हमें सूचित कर दें, हम आपका परिचय हटा देंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें