आपका परिचय

गुरुवार, 24 मई 2012

140. पं. ज्वाला प्रसाद शांडिल्य ‘दिव्य’

पं. ज्वाला प्रसाद शांडिल्य ‘दिव्य’








जन्म :  26.03.1943 को उ.प्र. के जनपद अलीगढ़ में। 
शिक्षा :  बी.ए., साहित्य रत्न, उत्तरमध्यमा, हिन्दूधर्म रत्न परीक्षा, होम्योचिकित्सा।


लेखन/प्रकाशन/योगदान :  मूलतः कवि। कविता में मूलतः दोहा एवं दोहा आधारित छन्दों (जनक छन्द, सुगति आदि) में विशेष रूप से सृजनरत। साथ ही धार्मिक विषयों एवं चिकित्सा सम्बन्धी लेखन भी। साहित्य, धर्म एवं चिकित्सा सम्बन्धी विषयों पर अब तक सत्रह पुस्तकें प्रकाशित, जिनमें चारू चन्द्रिका, सुगति एक चिन्तन, ज्ञान कमल आदि प्रमुख हैं। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं व संकलनों में कवितायें प्रकाशित। आकाशवाणी द्वारा काव्य पाठ। हरिद्वार की सुप्रसिद्ध साहित्यिक संस्था ‘पारिजात’ में सक्रिय भूमिका। कुछ पत्र-पत्रिकाओं के सम्पादन से सम्बद्ध रहे। कुछ धार्मिक संस्थाओं से भी सम्बद्ध। 
सम्मान :  काव्य प्रसून, दीपशिखा सहित विभिन्न स्तरों के कई सम्मान व मानद उपाधियां।
सम्प्रति :  साहित्य-साधना के साथ-साथ होम्यो चिकित्सा तथा पांडित्य कर्म के माध्यम से समाज सेवा में रत।
सम्पर्क  :  251/1, दयानन्द नगरी, ज्वालापुर, हरिद्वार-249407 (उत्तराखण्ड)
मोबाईल : 09927614628






अविराम में प्रकाशन 
मुद्रित अंक :  अप्रैल-जून 2011 अंक में तीन जनक छन्द।
           जनवरी-मार्च 2012 अंक में पाँच जनक छन्द।
ब्लाग संस्करण :  दिसम्बर 2011 अंक में छः जनक छन्द।











नोट : १. परिचय के शीर्षक के साथ दी गयी क्रम  संख्या हमारे कंप्यूटर में संयोगवश  आबंटित  आपकी फाइल संख्या है. इसका और कोई अर्थ नहीं है
२. उपरोक्त परिचय हमें भेजे गए अथवा हमारे द्वारा विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी पर आधारित है. किसी भी त्रुटि के लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं. त्रुटि के बारे में रचनाकार द्वारा हमें सूचित करने पर संशोधन कर दिया जायेगा। यदि रचनाकार अपने परिचय में कुछ अन्य सूचना शामिल करना चाहते हैं, तो इसी पोस्ट के साथ के टिपण्णी कॉलम में दर्ज कर सकते हैं। यदि किसी रचनाकार को अपने परिचय के इस प्रकाशन पर आपत्ति हो, तो हमें सूचित कर दें, हम आपका परिचय हटा देंगे


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें